Har-Har Mahadev Meaning: जानें हर-हर महादेव का अर्थ आसान हिंदी में

Har-Har Mahadev Meaning: शिव मंदिर देखते ही अपने आप मुंह से निकल जाता है ‘हर-हर महादेव’! हम अक्सर भगवान शिव के भक्तों को ‘हर-हर महादेव’ कहते हुए सुनते हैं। पर, क्या कभी आपने हर-हर महादेव का अर्थ जानने का प्रयास किया है? अगर नहीं, तो यह आर्टिकल जरूर पढ़ें।

हर-हर महादेव का अर्थ (Har-Har Mahadev Meaning)

आपने ध्यान दिया होगा कि जब एक शिव भक्त, दूसरे शिव भक्त से मिलता है, तो वह हर-हर महादेव अवश्य कहता है।

मैंने यह जानना चाहा कि क्यों किया जाता है ‘हर-हर महादेव’ का उद्घोष?

क्या होता है इसका अर्थ?

यह लेख लिखने से पहले मैंने हर बार की तरह रिसर्च का सहारा लिया।

उस दौरान मैंने जाना कि सृष्टि के आरंभ के साथ ‘हर-हर महादेव’ के उद्घोष का जन्म हुआ था।

हर-हर महादेव के जयकारे का उल्लेख सबसे प्राचीन ग्रंथ ‘ऋग्वेद’ में मिलता है।

प्राचीन समय में युद्ध के दौरान, राजाओं और सिपाहियों को भी हर-हर महादेव कहते सुना गया है।

‘हर-हर महादेव’ श्रीमंत छत्रपति शिवाजी महाराज का ‘युद्ध नारा’ हुआ करता था।

नया काम शुरू करते और चुनौतियों से लड़ते समय भी शिव भक्तों के मुखारबिंद से यही नारा सुना जा सकता है।

मौजूदा समय में ‘हर-हर महादेव’ एक सुप्रसिद्ध नारा बन चुका है, जिसकी गूंज दुनियाभर में सुनाई देती है।

चलिए, जानते हैं कि ‘हर-हर महादेव’ का अर्थ मैंने क्या-क्या जाना।

हर-हर महादेव का अर्थ (Har-Har Mahadev Meaning) – 1

जानकार बताते हैं कि ‘हर-हर महादेव’ का अर्थ होता है ‘हर जीव में महादेव’ यानी शिव जी वास करते हैं।

हर-हर महादेव का अर्थ – 2

कुछ कहते हैं कि ‘हर-हर महादेव’ का अर्थ है – ‘हे देवों के देव महादेव! मेरे सभी पापों और दुखों को हरो अर्थात् नकारात्मक ऊर्जा से मेरी रक्षा करो।

संस्कृत में ‘हर’ का अर्थ ‘नाश’ होता है।

इस लिहाज से ‘हर-हर महादेव’ का एक अर्थ यह भी हुआ कि भगवान शिव के आराधक को महादेव की तरह ही सादगीपूर्ण जीवन जीना चाहिए।

अर्थात् अपने अंदर की समस्त बुराइयों का नाश करते हुए परम चेतना को प्राप्त करने का निरंतर प्रयास करना चाहिए।

अपने अंदर के महादेव को जगाकर नकारात्मक ऊर्जा का नाश करना चाहिए ।

हर-हर महादेव का अर्थ (Har-Har Mahadev Meaning) – 3

कहा जाता है कि सृष्टि में सकारात्मक ऊर्जा के साथ नकारात्मक ऊर्जा का भी जन्म हुआ था।

सकारात्मक ऊर्जा जीवों के लिए हितकारी निकली। लेकिन, नकारात्मक ऊर्जा सृष्टि-हित के विपरीत थी।

ऐसे में सृष्टि की रक्षा के लिए साधु-संतों और देवताओं ने हमेशा की तरह भगवान शिव की ओर रुख किया।

उन्होंने महादेव के सामने नकारात्मक ऊर्जा से स्वयं और पृथ्वी को बचाने की गुहार लगाई।

तब महादेव ने समझाते हुए कहा कि “प्रत्येक प्राणी में मैं ही निवास करता हूं।

जीवन में नकारात्मक ऊर्जा की अनुभूति पर ‘हर-हर महादेव’ का जाप करना चाहिए।”

प्रभु शिव ने मनुष्यों के समक्ष ‘हर-हर महादेव’ का जाप किया और उनको अपने अंदर की शक्ति से परिचित कराया।

भगवान भोलेनाथ ने बताया कि “प्रत्येक आत्मा मेरा ही स्वरूप है। अर्थात् सभी जीव महादेव हैं!

सभी प्राणी विशेषकर मनुष्य मेरी तरह ही शक्तिशाली और बलशाली हैं।

जिस तरह आपमें सकारात्मक ऊर्जा सहन करने की क्षमता है।

उसी प्रकार आपमें नकारात्मक ऊर्जा से लड़ने की शक्ति भी है।

इसलिए, मैं सभी मनुष्यों से यह कहना चाहूंगा कि जब कभी आपको नकारात्मक ऊर्जा सताए, ‘हर-हर महादेव का जाप करते हुए अपने अंदर के ‘महादेव’ को जगाएं।”

हर-हर महादेव का अर्थ (Har-Har Mahadev Meaning) – 4

हर-हर महादेव एक ऐसा शक्तिशाली मंत्र है, जिसके जयकारे से सभी दोष मिट जाते हैं।

मन, बुद्धि, विचार और वाणी सहित संपूर्ण वातावरण शुद्ध हो जाता है।

जैसा कि हर-हर महादेव के जयकारे का सर्वप्रथम उल्लेख सबसे प्राचीन ग्रंथ ‘ऋग्वेद’ में मिलता है।

जिसमें हर-हर महादेव के मंत्र का एक अर्थ यह भी माना जाता है।

कहते हैं कि परम चेतना प्राप्त करने के लिए अपने सभी दोषों को समाप्त कर देना चाहिए।

हर-हर महादेव का पहला शब्द, जिसे ‘हर’ कहते हैं, वास्तव में यह संस्कृत से लिया गया शब्द ‘हारा’ है।

यहां ‘हारा’ का अर्थ होता है ‘हर क्षण महादेव का जाप करते रहना’।

अर्थात् लगातार हर-हर महादेव कहते हुए स्वयं को पूरी तरह से भगवान शिव को समर्पित कर देना।

अगर यह जानकारी पसंद आई हो तो प्रेम से बोलो ‘हर-हर महादेव’!

हर पल करें जाप, तो मिट जाए संताप!

भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए 15 प्रभावशाली मंत्र

  1. ॐ शिवाय नम:
  2. ॐ सर्वात्मने नम:
  3. ॐ त्रिनेत्राय नम:
  4. ॐ हराय नम:
  5. ॐ इन्द्रमुखाय नम:
  6. ॐ श्रीकंठाय नम:
  7. ॐ वामदेवाय नम:
  8. ॐ तत्पुरुषाय नम:
  9. ॐ ईशानाय नम:
  10. ॐ अनंतधर्माय नम:
  11. ॐ ज्ञानभूताय नम:
  12. ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:
  13. ॐ प्रधानाय नम:
  14. ॐ व्योमात्मने नम:
  15. ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:

श्री सोमनाथ मंदिर निर्माण की रहस्यमय गाथा पढ़ें: https://gyanmanch.in/somnath-temple-gujarat

सोर्स

1 thought on “Har-Har Mahadev Meaning: जानें हर-हर महादेव का अर्थ आसान हिंदी में”

Leave a Comment